Kuttanadan Punjayile

I have come so far
From where i began miss this
Sound of the waves
Breez on my skin wish that
I could be back
Back in my home land go sin
Thithithara thithithai thithai thaka thei thom

Show me the row
And i will be right there how to
Anything to feel the wind in my head how go
Far as it takes and i wont even care go sing
Thithithara thithithai thithai thaka thei thom

Kuttanadan punchayile thithai thaka thei thei thom
Kochupenne kuyilale thitithara thei thei
Kottuvenam kuzhal venam, kurava venam ( 2times)

O.. thithithara thithithai thithai thaka thei thei thom ( 8times)

Its been 10 years
Where i spend each day thank you
What if i haden’t gone
What if i stayed but when
So many things
Are calling me away go sing
Thithithara thithithai thithai thaka thei thom

It fills my heart like the
Waters on care needs a
Sad of the rays the
Boat leaves the land take me
Back to the waters of my home land go sing
thithithara thithithai thithai thaka thei thei thom

Varavelkanaalu venam thithai thaka thei thei thom
Kodithoranangal venam thitithara thei thei
Vijayashree laalitharayi varunnu njangal ( 2times)

O.. thithithara thithithai thithai thaka thei thei thom ( 8times)

Reference: http://www.hilyrics.in/2016/12/kuttanadan-punjayile-song-lyrics-kerala.html

Advertisements

बैठ जाता हूं मिट्टी पे अक्सर

बैठ जाता हूं मिट्टी पे अक्सर…
क्योंकि मुझे अपनी औकात अच्छी लगती है..

मैंने समंदर से सीखा है जीने का सलीक़ा,
चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना ।।

ऐसा नहीं है कि मुझमें कोई ऐब नहीं है पर सच कहता हूँ मुझमे कोई फरेब नहीं है

जल जाते हैं मेरे अंदाज़ से मेरे दुश्मन क्यूंकि एक मुद्दत से मैंने न मोहब्बत बदली और न दोस्त बदले !

एक घड़ी ख़रीदकर हाथ मे क्या बाँध ली..
वक़्त पीछे ही पड़ गया मेरे..!!

सोचा था घर बना कर बैठुंगा सुकून से..
पर घर की ज़रूरतों ने मुसाफ़िर बना डाला !!!

सुकून की बात मत कर ऐ ग़ालिब….
बचपन वाला ‘इतवार’ अब नहीं आता |

शौक तो माँ-बाप के पैसो से पूरे होते हैं,
अपने पैसो से तो बस ज़रूरतें ही पूरी हो पाती हैं..

जीवन की भाग-दौड़ में –
क्यूँ वक़्त के साथ रंगत खो जाती है ?
हँसती-खेलती ज़िन्दगी भी आम हो जाती है..

एक सवेरा था जब हँस कर उठते थे हम
और
आज कई बार
बिना मुस्कुराये ही शाम हो जाती है..

कितने दूर निकल गए,
रिश्तो को निभाते निभाते..
खुद को खो दिया हमने,
अपनों को पाते पाते..

लोग कहते है हम मुस्कुराते बहोत है,
और हम थक गए दर्द छुपाते छुपाते..

“खुश हूँ और सबको खुश रखता हूँ,
लापरवाह हूँ फिर भी सबकी परवाह
करता हूँ..

चाहता तो हु की ये दुनिया बदल दू ….
पर दो वक़्त की रोटी केजुगाड़ में फुर्सत नहीं मिलती दोस्तों

महँगी से महँगी घड़ी पहन कर देख ली,वक़्त फिर भी मेरे हिसाब से कभी ना चला…!

युं ही हम दिल को साफ़ रखा करते थे..पता नही था की, ‘किमत चेहरों की होती है!!’

अगर खुदा नहीं हे तो उसका ज़िक्र क्यों ? और अगर खुदा हे तो फिर फिक्र क्यों ?

“दो बातें इंसान को अपनों से दूर कर देती हैं,एक उसका ‘अहम’ और दूसरा उसका ‘वहम’…

” पैसे से सुख कभी खरीदा नहीं जाता और दुःख का कोई खरीदार नहीं होता।”

मुझे जिंदगी का इतना तजुर्बा तो नहीं,पर सुना है सादगी मे लोग जीने नहीं देते।

किसी की गलतियों को बेनक़ाब ना कर,

‘ईश्वर’ बैठा है, तू हिसाब ना कर…

~हरिवंशराय बच्चन

थाम्ब ना रे तू

 

बाबा मला कळलेच नाही तुझ्या मनी वेदना
कशी मी राहू, बोल कुठे जाऊ, मला काही समज़ेना
साद ही घालते लाड़की तुला
जगण्या तू दिला माझ्या जीवा अर्थ खरा
बाबा, थाम्ब ना रे तू बाबा
जाओ नको दूर बाबा

दैव होता तू, देव होता तू
खेळण्यातला तणा माज़ा खेळ होता तू
शहाणी होती मी, वेडा होता तू
माझ्यासाठी का रे सारा खर्च केला तू
आज तू फेडू दे पांग है मला
जगण्या रे मला अजूनही तूच हवा
बाबा, थाम्ब ना रे तू बाबा
जाओ नको दूर बाबा

पाय है भाजले अश्रूंच्या उन्हात
हाक दे, हात दे, श्वास दे पुन्हा
बाबा बोल ना, बोल ना, बोल ना
बाबा, थाम्ब ना रे तू बाबा
जाओ नको दूर बाबा

~मनोज यादव

English Translation:

~Father, I never understood
the pain within your mind
How should I live
tell me where should I go

Calling out to you
is your beloved child
You have given true meaning to my life

Father, please wait
Father, please don’t go far away

You were God like
You were my God
When I played with you
You were my plaything

I was Wise One
You were the Crazy One
For my sake
You spent everything you had

Today let me pay back everything I owe
If I am to live on
I can’t do it without you

Father, wait awhile please
Father, please don’t go far away

My feet are burning
in the scorching rays of my tears
Call out to me give me your hand
Please give me breath again
Father, please say something
Something please, say something
Say anything

Father, please wait
Father, please don’t leave for far away
Father, stay with me, please
Father

~Manoj Yadav

Disclaimer

© આ બ્લોગમા રજૂ થયેલી કૃતિઓના હક્કો (કોપીરાઇટ) જે તે રચનાકાર ના પોતાના છે. આ બ્લોગ પર અન્ય રચયિતાઓની રચનાઓ મૂકવામાં આવી છે તેને કારણે જો કોઇના કોપીરાઇટનો ભંગ થયેલો કોઇને જણાય અને તેની મને જાણ કરવામાં આવશે, તો તેને તરત અહીંથી દૂર કરવામાં આવશે. Disclaimer : This blog is not for any commercial purposes. The entries posted on this blog are purely with the intention of sharing personal interest.

Translate